google.com, pub-4801872510841202, DIRECT, f08c47fec0942fa0 curl --location -g --request PUT 'https://api.adx1.com/api/campaign/{{campaign_id}}?api_key={{api_key}}' \ --header 'Content-Type: application/x-www-form-urlencoded' \ --data-urlencode 'Campaign[active]=0' मनोहर ने पंजाब के किसानो के साथ ठीक नहीं क्या उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए -अमरिंदर  – NEWS INDIA POST
मनोहर ने पंजाब के किसानो के साथ ठीक नहीं क्या उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए -अमरिंदर 

मनोहर ने पंजाब के किसानो के साथ ठीक नहीं क्या उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए -अमरिंदर 

मनोहर ने पंजाब के किसानो के साथ ठीक नहीं क्या उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए -अमरिंदर

पंजाब-हरियाणा के मुख्यमंत्री आमने-सामने
हरियाणा का  मुख्यमंत्री झूठ बोल रहा है अब 10 बार भी कॉल करेंगे,तो भी मैं उनसे बात नहीं करूंगा –  कैप्टन अमरिंदर
-न्यूज इंडिया पोस्ट –
चंडीगढ़ () किसान आंदोलन को लेकर पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्री आमने-सामने हो गए हैं। इस बीच दोनों में फोन कॉल को लेकर विवाद हो गया है। एक तरफ पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ आंदोलन को लेकर सियासी बयानबाजी भी जारी है।

 

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच बयानबाजी हुई। कैप्टन ने मनोहर लाल को झूठा तक कह दिया। इस पर हरियाणा मुख्यमंत्री के पर्सनल सेक्रेटरी अभिमन्यु सिंह ने सोशल मीडिया पर कॉल रिकॉर्ड पोस्ट कर दिया। अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कैप्टन को करारा जवाब दिया है।

Chief Minister of Punjab-Haryana face to face
Haryana’s Chief Minister is lying, now even 10 times I will call, I will not talk to him – Captain Amarinder
-News India Post –
Chandigarh () The Chief Ministers of Punjab and Haryana have come face to face with the farmers movement. Meanwhile, there has been a dispute over phone calls in both. On one hand, farmers of Punjab and Haryana are demonstrating on the Delhi border, while on the other hand political rhetoric about the movement is also going on.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा था कि हरियाणा के मुख्यमंत्री झूठ बोल रहे हैं कि उन्होंने कॉल किया और मैंने उन्हें जवाब नहीं दिया। उन्होंने हमारे किसानों के साथ ठीक नहीं किया। उन्हें माफी मांगनी चाहिए। अब अगर वे 10 बार भी कॉल करेंगे,तो भी मैं उनसे बात नहीं करूंगा। इसके पलटवार में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भी करार जवाब दिया और कहा कि एक मुख्यमंत्री को ऐसी भाषा शोभा नहीं देती। हमने फैसला लिया था कि कोरोना काल में किसी तरह की भीड़ प्रदेश में जुटने नहीं देंगे।

केंद्र सरकार ने भी भीड़ जमा न करने के निर्देश दिए हैं। फिर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों को आंदोलन करने की इजाजत कैसे दे दी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कैप्टन को चेताया कि अगर प्रदेश में कोरोना संबंधी हालात बिगड़े तो इसके लिए पंजाब सरकार जिम्मेदार होगी। मैंने कैप्टन अमरिंदर सिंह से बात करने की कोशिश की,लेकिन उन्होंने मेरा कॉल रिसीव करने से इंकार कर दिया। यही नहीं मुझे झूठा बताते हुए कहा कि मैंने कोई कॉल नहीं किया। जब मैंने कॉल प्रूफ दिया तो उनके मुंह से एक शब्द नहीं निकला।

 

 

इससे पहले मुख्यमंत्री ने आंदोलन में माहौल बिगाडऩे वाले लोगों के शामिल होने की आशंका जताई है। उन्होंने कहा कि इसमें अवांछित लोग शामिल हो गए हैं। एक वीडियो सामने आया है,जिसमें नारेबाजी हो रही है कि जब इंदिरा (पूर्व प्रधानमंत्री) के साथ ऐसा कर सकते हैं तो मोदी को क्यों नहीं। मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या की ओर इशारा करते हुए कहा कि आंदोलनकारी किसानों के बीच नारेबाजी के जो वीडियो सामने आए हैं, उससे इस बात की पुष्टि हो रही है कि आंदोलन में अवांछित लोग शामिल हैं।

 

 

हमें इनपुट मिले हैं लेकिन अभी इसका खुलासा नहीं कर सकते। जांच करवा रहे हैं। सीएम ने हरियाणा पुलिस के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि पुलिस ने पूरे संयम से काम लिया और कहीं भी बल प्रयोग नहीं किया। बकौल मुख्यमंत्री इतनी बड़ी संख्या में किसानों के दिल्ली जाने का कोई औचित्य नहीं है। सरकार से बातचीत तो किसानों के प्रतिनिधियों के द्वारा भी की जा सकती है। उन्होंने पंजाब के किसानों से अपील करते हुए कहा कि उनके प्रतिनिधि इस मामले में केंद्र सरकार से बात करें, क्योंकि बातचीत ही इसका समाधान है।

पूरा विवाद
किसानों के आंदोलन में पुलिस की सख्ती को लेकर हरियाणा सरकार पर सवाल उठाए जा रहे हैं। इसको लेकर मनोहर लाल ने कहा था कि उन्होंने पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह से चर्चा करने के लिए कई बार उन्हें फोन लगाया था। लेकिन,वहां से कोई जवाब नहीं मिला। इस पर पलटवार करते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बयान दिया था और हरियाणा के मुख्यमंत्री से बात नहीं करने की बात कही थी। इस मामले में नया मोड़ तब आया,जब हरियाणा के सीएम खट्टर के पर्सनल सेक्रेटरी ने सोशल मीडिया पर फोन कॉल का रिकॉर्ड ही जारी कर दिया। अभिमन्यु ने लिखा-शायद आपका पर्सनल स्टाफ आपको ऑफिशियल कॉल्स की जानकारी नहीं देता।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English Hindi Hindi